रूसी आर्कटिका एम रीमोट सेन्सिंग उपग्रह क्या है ? और क्यूँ भेजा गया ? Arktika M ki jaankari Hindi me

Arctic ice


द आर्कटिक इंस्टिट्यूट डाटा के अनुसार :

 रूस का हजारों किमी 53%  समुद्र तट आर्कटिक क्षेत्र – उत्तरी ध्रुव के अंतर्गत हिस्सा है यहाँ लगभग दो मिलियन बुद्धि जीवी इस समुद्र तट पर निर्भर हैं इस वजे से पर्यावरण को समतुल्य बनाए रखने के लिए रूस को कई कठिनयियों का सामना करना पड़ता हैं | रूस का प्रशासन व्यवस्था अपना आर्थिक विकास और पर्यावरण रक्षा दोनों को महत्वपूर्ण कार्य माना है |

 

 


आर्कटिका एम क्या है ?

यह एक प्रत्येक सॅटॅलाइट शृंखला हैं जो की उत्तरी ध्रुव के मौसम को अध्ययन करने के लिए रूस भेज  रहा है|

रूस ने पहला “ आर्कटिका एम ” सॅटॅलाइट कजाखस्तान के बैकोनूर कॉस्मोडरोम केंद्र से प्रयोग किया| इस सॅटॅलाइट को धरती से अंतरिक्ष तक elliptical 12 घंटे वाला ऑर्बिट में सुचारु रूप से पहुँचने वाला साधन रूस का लोकप्रिय रॉकेट सोयूज़ 2.1 बी रहा |  इस प्रयोग को सफल बनाने के लिए सोयूज़ के support में fregat बूस्टर्स भी लगादिये थे |

 

Arktika M Merits – demerits :- 

हर 15 मिनट में तस्वीरें खींचकर पर्यावरण शोदारथियों को भेज देता हैं | शोधार्थी और पर्यावरण वैज्ञानिक इन चित्रों का अवलोकन करेंगे |

Causes , effects  बर्फ़ पिघलना , कारखानों से गंदा पानी समुद्र में मिलने से बचाना,  प्राकृतिक वनस्पतियों की तलाश करना , नए समुद्र मार्ग खोज करना ,  यातायात के समय और धन खर्च को कम करना |

 Remote sensing 10 डिग्री c + emergency communications : उत्तरी ध्रुव का  मौसम संबंधित समाचार और चित्र , समुद्र के पास होने वाले घटनाओं पर नज़र रखना | 

उत्तरी ध्रुव के पिघलते हुए बर्फ़ और वहाँ के मौसम पर निगरानी रखने के लिए कम से कम दो आरकीटिका एम उपग्रहों की जरूरत है इसी कार्य में पहला अरकीटिका एम उपग्रह 2021 फ़रवरी 28 को भेजगया इसका वजन लग भाग 2100 किलो है | और दूसरा 2023 में भेज जाएगा | 

 

Ships rescue , oil & Natural gas

Gov, media , people, should do to improve this

लगभग दस साल तक आर्कटिका एम 1 काम करेगी |


निष्कर्ष

 

117 पर पहला स्तर अलग हुआ

287 पर दूसरा स्थार अलग हुआ

290 पर पूनज भाग अलग हुआ

291 पर फेरिंग जेटिसन

559 तीसरी स्थार में मुख्य इंजन बंद हुई |

562 अंतरिक्ष में प्रवेश करने वाला मुख्य भाग सॅटॅलाइट अलग हुआ |

Credits : roscosmos

Arktika M 1 = 2021 feb 28, 2031 तक उत्तरी ध्रुव के मौसम की रक्षा में इस satellite अपना योगदान देगी |  

M2 =2023

M3 = 2024

M4 = 2025

M5 = 2025

अंदाजा लगाया जा रहा है कि उत्तरी ध्रुव के बर्फ़ की चट्टानों के नीचे 16 से 26 % natural undiscovered reserves होंगे 

 

गूगल में उपलब्ध एक रिपोर्ट के अनुसार Earth has lost 28 trillion tonnes of Ice between 1994-2007




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

A five day online Training cum Workshop on Testing and Evaluation in Hindi

A Good Opportunity to Study PG in the Top Central Universities, India | Benefits | Important Dates | Syllabus | Question Paper Pattern | Entrance Exam CUET 2022-2023 Fee |